Sunday, May 26, 2024
होमइतिहासराम कथा और हिन्दी के प्रेमी की पुण्यतिथि पर नमन -पद्मभूषण फादर...

राम कथा और हिन्दी के प्रेमी की पुण्यतिथि पर नमन -पद्मभूषण फादर कामिल बुल्के

रामकथा और हिन्दी के
प्रेमी की पुण्यतिथि पर नमन


फादर कामिल बुल्के ने हिंदी प्रेम के कारण अपनी पीएचडी थीसिस हिंदी में ही लिखी.

जिस समय वे इलाहाबाद में शोध कर रहे थे उस समय देश में सभी विषयों की थीसिस अंग्रेजी में ही लिखी जाती थी. उन्होंने जब हिंदी में थीसिस लिखने की अनुमति माँगी तो विश्वविद्यालय ने अपने शोध संबंधी नियमों में बदलाव लाकर उनकी बात मान ली. उसके बाद देश के अन्य हिस्सों में भी हिंदी में थीसिस लिखी जाने लगी.l

दिल्ली विश्वविद्यालय में हिंदी विभाग के पूर्व अध्यक्ष प्रोफ़ेसर नित्यानंद तिवारी कहते हैं, “फ़ादर कामिल बुल्के और मैंने इलाहाबाद विश्वविद्यालय में हिंदी के प्राध्यापक डॉक्टर माता प्रसाद गुप्त के निर्देशन में अपना शोध कार्य पूरा किया था. मैंने उनमें हिंदी के प्रति हिंदी वालों से कहीं ज्यादा गहरा प्रेम देखा. ऐसा प्रेम जो भारतीय जड़ों से जुड़ कर ही संभव है. उन्होंने रामकथा और रामचरित मानस को बौद्धिक जीवन दिया.”उन्होंने अपने शोध का विषय ‘रामकथा: उत्पत्ति और विकास’ चुना। इस विषय पर उन्होंने इलाहाबाद विश्वविद्यालय से ‘डॉक्टरेट’ की उपाधि प्राप्त की। उनका यह कार्य भारत के साथ ही विश्व में प्रकाशित हुआ और इसके बाद पूरा विश्व बुल्के को जानने लगा।
बुल्के आजीवन हिन्दी की सेवा में लगे रहे। हिन्दी-अँगरेजी शब्दकोश के निर्माण के लिए वे सतत प्रयत्नशील रहे। वर्ष 1968 में अंग्रेजी हिन्दी कोश प्रकाशित हुआ जो आज भी सबसे प्रामाणिक शब्दकोष माना जाता है। उन्होंने इसमें 40 हज़ार शब्द जोड़े और इसे आजीवन अद्यतन भी करते रहे।
उल्लेखनीय है कि फ़ादर कामिल बुल्के का जन्म 1 सितम्बर 1909 को बेल्जियम की फ्लैंडर्स स्टेट के ‘रम्सकपैले’ गांव में हुआ था। उन्होंने ‘यूवेन विश्वविद्यालय’ से अभियांत्रिकी की शिक्षा समाप्त करने के बाद वह 1935 में भारत आए l और यही के होकर रह गए l उन्हें साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन 1974 में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। फ़ादर कामिल बुल्के की मृत्यु 17 अगस्त 1982 को दिल्ली में हुई।
साभार गोपाल राठी जी के वाल से——–

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments