Monday, April 22, 2024
होमराजनीतिदिल्ली नगर निगम, गुजरात, हिमांचल विधान सभा चुनाव और बिहार, छत्तीस गढ,...

दिल्ली नगर निगम, गुजरात, हिमांचल विधान सभा चुनाव और बिहार, छत्तीस गढ, राजस्थान और उ. प्र. में हुए उपचुनावों के नतीजे पर ध्यान दें, बहुत कुछ भविष्य की आहट सुनाई दे रही

कल दिल्ली नगर निगम में 15 साल बाद भाजपा की आम आदमी पार्टी के हाथ अपनी सत्ता गंवाई, फिर आज गुजरात जिसे भाजपा का सबसे मजबूत किला माना जाता है और जहाँ आम आदमी पार्टी जहाँ गुजरात विधानसभा चुनाव की घोषणा के तीन माह पूर्व से ही चुनाव में पूरी ताकत से प्रचार में कूद पड़ी थी और दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल सहित पार्टी के तमाम बड़े नेताओं ने अपनी ताकत झोंक दी, और ओबैसी भी अपनी पार्टी को लेकर आ गए, वहीं कांग्रेस के सभी बड़े नेता अपने राष्ट्रीय अध्यक्ष के चुनाव और राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा में व्यस्त रहे। राहुल गांधी प्रियंका गांधी और सोनियां गांधी तो गुजरात में पूरे समय कभी प्रचार में नहीं गए और कांग्रेस गुजरात चुनाव और दिल्ली नगर निगम के चुनाव में ऐसा लगा जैसे बेहद गैरजिम्मेदारी से और उदासीनता से चुनाव लड़ा सब कुछ राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलौत पर गुजरात चुनाव का जिम्मा छोड़ दिया गया था। नतीजतन विपक्ष के वोट कांग्रेस, आम आदमी पार्टी और ओबैसी में बंट गए। और गुजरात चुनाव में भाजपा ने विधान सभा चुनाव जीतने का रिकार्ड ही बना डाला। शुरू में ऐसा लगा कि इस बार भाजपा को जीतने के लाले गुजरात में पड़ेंगे। लेकिन मोदी और अमित शाह दोनों ने अपनी पूरी ताकत गुजरात में झोंक दी, आज तक इतनी मेहनत मोदी और अमित शाह ने पहले कभी नहीं गुजरात में की थी आज रिजल्ट आया तो भाजपा ने रिकार्ड 156सीट जीत ली। वहीं चुनाव के डेट की घोषणा के तीन माह पूर्व से ही प्रचार कर रही आम आदमी पार्टी 5 सीट मात्र पाई और कांग्रेस मात्र 17 सीट जीत पाई अन्य 4 जीते। वहीं हिमांचल प्रदेश में 68 सदस्यों वाली विधान सभा में कांग्रेस 39,भाजपा 26 सीट व अन्य 3 जीते। आम आदमी पार्टी का यहां खाता तक नहीं खुला। उत्तर प्रदेश उपचुनाव 3स्थानों पर चुनाव हुए और जिनमें एक पर मुलायम सिंह यादव की मृत्यु पर अखिलेश यादव की पत्नी डिम्पल ने 2 लाख 47 हजार के आसपास वोटों से जीत हासिल की। रामपुर भी सपा का गढ था लेकिन यहाँ बीजेपी उम्मीद वार जीता और खतौली से आर एल डी (सपा समर्थित) उम्मीद वार चुनाव जीता बिहार में दो में एक स्थान पर बीजेपी और एक पर महा गठबंधन का उम्मीद वार जीता। राजस्थान के तीनों सीट कांग्रेस उम्मीद वार ने जीता इसी प्रकार छत्तीसगढ़ में भी कांग्रेस उम्मीद वार जीता। आगे हम इन चुनावों में पार्टियों के हारजीत का विश्लेषण और आने वाले लोकसभा चुनाव का इसपर पड़ने वाले असर पर भी हम चर्चा करेंगे साथ ही प्रधान मंत्री मोदी की लोकप्रियता और राहुल गांधी के कार्यकलापों से कांग्रेस में पड़ने वाले इफेक्ट और साईड इफेक्ट और आम आदमी पार्टी और ओबैसी की क्रिया कलाप से कांग्रेस पर पड़ने वाले असर पर भी बात होगी।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments