Sunday, June 23, 2024
होमपूर्वांचल समाचारआज़मगढ़सुप्रीम कोर्ट के नये चीफ जस्टिस डी. वाई . चंद्रचूड़- आये...

सुप्रीम कोर्ट के नये चीफ जस्टिस डी. वाई . चंद्रचूड़- आये हैं ताजा हवा के झोंके की तरह, आखिर क्यूँ है उनकी ख्याति और क्या है उनकी खासियत

आखिर क्यूँ है भारत के नए चीफ जस्टिस डी. वाई. चंद्रचूड़ के आने से भारतीय जन मानस में इतनी जिझासा और दिलचस्पी ।ऐसा लगता है उनके आने से भारतीय जन मानस काफी आश्वान्वित है और उनसे ढेर सारी अपेक्षाएं। जानते हैं उनके बारे में – 9 नवम्बर को भारत के 50वें चीफ जस्टिस डी. वाई. चंद्र चूड़ को महा महिम राष्ट्रपति द्रोपदी मूर्मू ने उन्हें पद और गोपनियता की शपथ ग्रहण कराया। उनके पिता वी. वाई. चंद्र चूड़ भी 44 वर्ष पूर्व कोर्ट के चीफ जस्टिस रह चुके हैं और एक बार वर्तमान चीफ जस्टिस ने अपने पिता के फैसले को ही पलट दिया था। शपथ लेने के बाद उन्होंने कहा हर तरह के नागरिकों को न्याय दिलाउंगा,उन्होने शपथ ग्रहण के बाद अपने चैम्बर में तिरंगे को नमन किया। कहा जाता है कि वह बेहद खुले विचारों वाले न्यायप्रिय विचारों वाले निर्भिक और किसी के दबाव में नहीं आते हैं और चुपचाप अपना निर्णय लेते हैं। इनका कार्यकाल 10 नवम्बर 2024 तक है। शायद काफी समय बाद इतने लम्बे कार्यकाल तक का समय इन्हें मिला है और क ई विवादित मामले भी ऐसे लम्बित हैं जिनमें उनको निपटाना है उन्हें उदार दृष्टिकोण वाला और बौद्धिक तथा सुसंस्कृति तथा बेहद क्षमता वान माना जाता है अधिवक्ताओं में लोकप्रिय हैं और उनके सामने अपनी बात रखने में खुशी महसूस करते हैं। महिलाओं और वंचित वर्ग को न्याय दिलाने को तत्पर रहते हैं। आधार कार्ड के मामले में उन्होंने असहमति जताते हुए कहा था कि किसी व्यक्ति के क ईपहचानों को 12 अंको में सीमित नहीं जा सकता है इसी प्रकार भीमा कोरेगांव मामले में उन्होंने असहमति को लोकतंत्र की जीवंतता बताया था। उनको दो साल का पर्याप्त समय क ई विवादित मामले उनको निपटाने का अवसर भी मिल गया है इन सब के अलावा 1 अक्टूबर तक 25 हाईकोर्ट में 1108 जजों के सापेक्ष 772पद पर कार्यरत चल रहे हैं इसतरह 336 पद रिक्त हैं इसी तरह सुप्रीम कोर्ट में भी 34 स्वीकृत पद के सापेक्ष 17 यानि आधे से काम चल रहा है। चीफ जस्टिस महोदय को 17 पदों को अपने समय में भरना भी एक चुनौती होगी। इसके अलावा क ई ऐसे विवादास्पद मामले ऐसे भी हैं जिनके फैसले का राजनीतिक दूरगामी असर भीपडे़गा ,जैसे नागरिकता संशोधन अधिनियम की वैधता, धारा 370 की समाप्ति, चुनावी बाण्ड योजना आदि मुद्दे प्रमुख हैं। News 51.in

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments