Tuesday, April 23, 2024
होमखेल जगतविश्व कप- टी- 20 का सेमीफाईनल-सच कहें तो पहली बार भारत के...

विश्व कप- टी- 20 का सेमीफाईनल-सच कहें तो पहली बार भारत के सामने असल परिक्षा दूसरी बार अब

भारत 2022 के विश्व कप टी- 20 के सेमीफाइनल में बिना किसी कठिन चुनौती के (सिवाय दक्षिण अफ़्रीका और पाकिस्तान के) अभी तक नहीं मिली है। एक में पाकिस्तान और बंगला देश के खिलाफ के खिलाफ मुश्किल से जीता।किस्मत ने भी भारत का साथ इन दोनों मैचों में दिया था और दूसरे मैच में दक्षिण अफ़्रीका से हार गया। बाकी भारत के ग्रुप में शामिल अन्य टीमें साधारण थी और भारत ने सभी में आसानी से जीत हासिल की। जिम्बाबवे, नीदरलैंड क्वालिफायर थे। दूसरा ग्रुप कहीं ज्यादा कठिन था उसमें मेजबान आस्ट्रेलिया, न्यूज़ीलैण्ड, इंग्लैण्ड, अफगानिस्तान, आयरलैंड,श्रीलंका जैसी टीम थी। आयरलैन्ड और अफगानिस्तान क्वालिफायर टीमें थी। कहने को तो भारत के ग्रुप में नीदरलैंड और जिम्बाबवे क्वालिफायर ग्रुप जीत कर आये थे लेकिन नीदरलैंड ने दक्षिण अफ़्रीका जैसी मजबूत टीम को हरा दिया। वेस्ट इंडीज़ टीम क्वालीफाई राउंड में ही हार कर बाहर हो गई। यह वेस्ट इंडीज़ क्रिकेट के लिए बुरे सपने से कम नहीं था उसकी हार से क्रिकेट खेलने वाले सभी देशों को और क्रिकेट प्रेमियों के लिए सदमें से कम नहीं था लेकिन इसका कारण स्वयंम वेस्ट इंडीज़ क्रिकेट बोर्ड और चयनकर्ताओं का अड़ियल रवैया और बड़े खिलाड़ियों के अहम पर मरहम न लगाकर पेशेवर रवैया न अपना कर बदला लेने की भावना का रूख अपनाया और पोलार्ड ,हेट मायर, आंद्रे रसेल और सुनिल नरायन जैसे मैच विजेता खिलाड़ियों को टीम से बाहर कर दिया, जिसका खामियाजा वेस्ट इंडीज़ टीम को क्वालिफायर राउंड में ही बाहर होकर भुगतान पड़ा। वैसे तो आयरलैंड, अफगानिस्तान और नीदरलैंड, जिम्बाबवे की टीमें कमजोर आंकी जा रही थी लेकिन टी- 20 एक ऐसा फार्मेट है जहाँ दिन विशेष पर कोई भी टीम किसी को भी हरा सकती है ऐसा ही कुछ इस बार भी देखने को मिला। चोकर्स की उपाधि पाने वाली दक्षिण अफ़्रीका की टीम इस बार नीदरलैंड से हार कर सेमीफाइनल में नहीं पहुंची और पाकिस्तान का रास्ता साफ हो गया और वह सेमीफाइनल में पहुँच गई इसी प्रकार इंग्लैंड की टीम आयरलैंड जैसी कमजोर टीम से डकवर्थ-लुईस नियम से 5 रन से हार गई थी इसी तरह मेजबान आस्ट्रेलिया जैसी मजबूत टीम जिसे सम्भावित विजेता माना जा रहा था लेकिन न्यूज़ीलैण्ड से 89 रन से हारने के बाद उसका नेट रन रेट काफी खराब हो गया था उपर से न्यूज़ीलैण्ड 20 रन से इंग्लैंड की जीत ने जले पर नमक छिडकने जैसा हो गया, नतीजा इंग्लैंड, आस्ट्रेलिया और न्यूज़ीलैण्ड तीनों के 7-7 प्वाइंट हो गए, लेकिन खराब रन रेट के कारण आस्ट्रेलिया सेमीफाइनल में पहुंचने से वंचित रह गया और न्यूज़ीलैण्ड और इंग्लैंड की टीम अपने ग्रुप में टाप पर रहते सेमीफाइनल में पहुँच गए। इंग्लैंड की टीम भी काफी मजबूत और सम्भावित विजेता मानी जा रही है लेकिन उसने केवल न्यूज़ीलैण्ड टीम के खिलाफ शानदार खेल दिखाया। बाकी आयरलैंड के खिलाफ डकवर्थ-लुईस नियम के तहत 5 रनों से हार गया था बाद में आस्ट्रेलिया का मैच बारिश से धुल गया था ।पहले मैच में अफगानिस्तान को हरा कर अच्छी शुरुआत की थी बाद में श्री लंका और न्यूज़ीलैण्ड को हरा दूसरे नम्बर की टीम बनी ,लेकिन वास्तविक शक्ति इंग्लैंड ने न्यूज़ीलैण्ड जैसी मजबूत टीम के खिलाफ ही दिखाया था अब 10 नवम्बर को भारत की असली परीक्षा इंग्लैंड जैसी मजबूत टीम के साथ ही होगी। भारतीय टीम बल्लेबाजी में पूरी तरह सूर्य कुमार यादव और विराट कोहली पर टिकी है वैसे पिछले मैच में के एल राहुल की फार्म वापसी शुभ संकेत है हार्दिक पांड्या और रोहित शर्मा का खेल अभी तक फीका ही रहा है। भारतीय बालर बुमराह की अनुपस्थिति में भी काफी अच्छा कर रहे हैं। वही हाल पाकिस्तान में बाबर आजम और रिजवान का खेल अब तक फीका ही रहा है और उनके मुख्य बालर शाहीन अफरीदी का भी खेल कोई खास नहीं था लेकिन पिछले मैच में चार विकेट लेकर उसने फार्म वापसी की झलक दिखला दी है लेकिन बल्लेबाजी उनकी कमजोर कड़ी है वो तो भला हो नीदरलैंड का, जिसने दक्षिण अफ़्रीका जैसी मजबूत टीम को हरा कर पाकिस्तान को अंतिम चार में पहुंचा दिया। अब तक तो उसका खेल भी साधारण ही रहा है कल उसकी भी न्यूज़ीलैण्ड जैसी मजबूत टीम से सेमीफाइनल में होना है। देखना दिलचस्प होगा कि पाकिस्तान और न्यूज़ीलैण्ड में से कौन और भारत तथा इंग्लैंड में से कौन टीम फाईनल में पहुंचती है। लेखक- अशोक श्रीवास्तव, सम्पादक News 51.in

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments