Tuesday, April 23, 2024
होमराजनीतिप्रशांत किशोर के सहयोगी सुनील कनुगोलू ने थामी कांग्रेस के प्रचार का...

प्रशांत किशोर के सहयोगी सुनील कनुगोलू ने थामी कांग्रेस के प्रचार का जिम्मा





प्रशांत किशोर से नहीं बनी बात, पर सहयोगी को लिया साथ; कांग्रेस के प्रचार की थामी कमान
प्रशांत किशोर से नहीं बनी बात, पर सहयोगी को लिया साथ; कांग्रेस के प्रचार की थामी कमान

चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर के पूर्व सहयोगी सुनील कनुगोलू ने आगामी लोकसभा चुनाव के लिए कांग्रेस की जीत सुनिश्चित करने के लिए पार्टी के साथ हाथ मिलाया है। पार्टी सूत्रों से जानकारी मिली है कि सुनील को साल 2023 से कांग्रेस के अभियान की योजना बनाने का जिम्मा सौंपा गया है। इसकी शुरुआत अगले साल कुछ राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव से होगी, जबकि साल 2024 में लोकसभा चुनाव में अग्नि परीक्षा होगी। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता का कहना है कि उचित समय में यह निर्णय लिया जाएगा।

यहां से गौर करने वाली बात है कि सुनील कनुगोलू और प्रशांत किशोर ने साल 2014 में भाजपा के लिए कैंपेन किया था, जिसमें भाजपा ने देश में बंपर वोटों के साथ चुनावी जीत हासिल की थी। 
अब कनुगोलू ने गांधी परिवार के साथ बैठक के बाद नए कैंपेन के लिए हामी भरी है। प्रशांत किशोर के सहयोगी रहते हुए सुनील कनुगोलू ने भाजपा के अलावा, DMK,AIDMK और अकाली दल के लिए कैंपेन किया है।

पिछले साल, अप्रैल-मई में बंगाल चुनाव की जीत के तुरंत बाद किशोर उर्फ पीके ने सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा के साथ बातचीत की थी। इन चर्चाओं के बीच ये बातें उड़ने लगी थी कि पीके एक परामर्श के तौर पर कांग्रेस सदस्यता ग्रहण कर सकते हैं। कई दौर के बाद, जब पीके के साथ कांग्रेस की वार्ता विफल हो गई, तो कांग्रेस ने कनुगोलू से संपर्क किया। सूत्रों का कहना है कि सुनील कनुगोलू पहले कांग्रेस के साथ काम करने को लेकर बहुत इच्छुक नहीं थे

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने एनडीटीवी से बातचीत में कहा, “हमारी प्रतिक्रिया प्रणाली खराब थी। हमें सिर्फ अपनी डेटा टीम से नंबर (सर्वेक्षण) मिले लेकिन मुद्दों को ठीक करने के लिए तंत्र और जिन क्षेत्रों में हम पिछड़ रहे थे, वह प्रभावी नहीं था और मैसेजिंग भी। यही वह जगह है जहां कानुगोलू पार्टी की मदद करेंगे। अभी के लिए सुनील कनुगोलू 2023 में होने वाले कर्नाटक और तेलंगाना विधानसभा चुनावों में कांग्रेस का कैंपेन संभालने वाले हैं।”

कौन है सुनील कनुगोलू
2014 में भाजपा के साथ काम करने के बाद सुनील कनुगोलू ने 2017 में पार्टी के साथ काम करना जारी रखा। उन्हें 2019 के राष्ट्रीय चुनाव में डीएमके के शानदार प्रदर्शन का श्रेय दिया जाता है। मिस्टर स्टालिन के लिए उनका “नमाक्कू नाम (हम अपने लिए)” अभियान एक बड़ी हिट थी। 2019 के चुनाव के बाद कनुगोलू DMK से AIADMK में चले गए। कई राज्यों में भाजपा और उसके नेतृत्व के साथ घनिष्ठ संबंध होने के बाद अब कांग्रेस के लिए कैंपेन करना उनका बड़ा मूव है। 

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments