Friday, June 14, 2024
होमइतिहासपुण्यतिथि -सपनों के सौदागर राजकपूर की-ओ जाने वाले हो सके तो लौट...

पुण्यतिथि -सपनों के सौदागर राजकपूर की-ओ जाने वाले हो सके तो लौट के आ

पुण्यतिथि है राजकपूर की

ओ जानेवाले हो सके तो लौट के आना , ये घाट तू ये बाट कहीं भूल न जाना

प्रकृति के सौन्दर्य बोध के साथ ही साथ उसके इन्द्रधनुषी रंगों की छटाओ को उसके
कायनात के साथ ही उसके भिन्न – भिन्न पक्षों पर एक नन्हा सा मासूम अपनी आँखों में बचपन से ही सवारे था वो जाते हुए भी उन्ही रंगों में खोया – खोया सा रहता और आँखे बंद करके नीद में भी वो उन्ही रंगों को सजाये कल्पनाओ की दुनिया में उड़ने लगता — 14 दिसम्बर 1924 को पेशावर में पृथ्वीराज कपूर के घर जन्म लेता है एक कोहिनूर — जो सम्वेदनाओं , संस्कृति , साहित्य में रचा बसा जिसका नाम रखते है — राजकपूर — राजकपूर मैट्रिक परीक्षा में एक विषय में फेल हो गये उन्होंने अपने पिता से कहा की अब मैं पधुगा नही मैं फिल्मो में काम करना चाहता हूँ | राजकपूर ने अपने पिता से कहा कि मैं अभिनेता बनना चाहता हूँ जिन्दगी की राहे तो राजकपूर को बुला रही थी अपने पिता से सहमती मिलने के बाद राजकपूर फ़िल्मी दुनिया से जुड़ गये | पृथ्वीराज कपूर ने राजकपूर को केदार शर्मा की यूनिट में क्लैपर बॉय के रूप में काम करने की सलाह दी | राजकपूर ने भारतीय सिनेमा में बाल कलाकार के रूप 1939 में फिल्म इन्कलाब में काम किया था | जो जगत बाहर है उस्किखोज ; जो अज्ञात है जो अनजान है उसे जन लेने के यात्रा पे निकल पड़े राजकपूर वो जो अज्ञात है उसे जान लेने के लिए राजकपूर फिल्म के शूटिंग के समय वह अक्सर आईने के सामने चले जाते थे और अपने बालो में कंघी करने लगते थे | कैलेप देते समय इस कोशिश में रहते कि किसी तरह उनका भी चेहरा कैमरे के सामने आ जाए अ| एक बार फिल्म ” विषकन्या ” की शूटिंग के दौरान राजकपूर का चेहरा कैमरे के सामने आ गया और हडबडाहट में चरित्र अभिनेता की दाढ़ी कैलेप बोर्ड में उलझकर निकल गयी | लोगो का कहना है कि केदार शर्मा ने राजकपूर को अपने पास बुलाकर जोर से थप्पड़ लगाया | हालाकि केदार शर्मा को इसका अफ़सोस रात भर रहा | अगले दिन उन्होंने अपनी नयी फिल्म ” नीलकमल ” के लिए राजकपूर को साइन कर लिया | राजकपूर अपने फिल्मो के साथ नया कुछ कर गुजरने की चाह रखते थे वर्ष 1848में उन्होंने आर , के .फिल्म्स की स्थापना की और फिल्म आग का निर्माण किया | वर्ष 1952 में प्रदर्शित फिल्म ” आवार ” ने राजकपूर को बतौर अभिनेता स्थापित कर दिया भारतीय फिल्म इतिहास में ” आवार हूँ आसमान का तारा ” | फिल्म की सफलता ने राजकपूर को देश – विदेश में लोकप्रिय बना दिया | राजकपूर के साइन करियर में उनको सबसे सफल जोदि नर्गिस के साथ रही दोनों ने सबसे पहले 1948 में फिल्म ” बरसात ” में नजर आये इसके बाद ‘ अंदाज़ ‘ जान – पहचान ‘ आवार ‘ अनहोनी , आशियाना , अम्बर , आह , धुन , पापी , श्री चार सौ बीस , जागते रहो और चोरी चोरी जैसी बहुत सी फिल्मो में उन लोगो ने साथ – साथ काम किये | याद आता है श्री चार सौ बीस की जिसमे बारिश में एक चाते के नेचे फिल्माए गये गीत ” प्यार हुआ इकरार हुआ ‘ में नर्गिस और राजकपूर के प्रेम प्रसंग के अविस्मर्णीय दृश्य को सिनेमा के दर्शक शायद ही भूल पाए | उनकी सहजता इसी बात से लगाई जाती है जब वो बोल पड़ते है ”मेरा जूता है जापानी मेरा पैन्ट इंग्लिशतानी सर पर लाल टोपी रुसी फिर भी दिल है हिन्दुस्तानी ”’ राजकपूर जी ने अपनी बनाई फिल्मो के माध्यम से नयी प्रतिभाओ को उचित स्थान दिया इनमे संगीतकार शंकर – जयकिशन , गीतकार नौशाद , हसरत जयपुरी और गायक मुकेश इसके साथ ही उनके प्रिय कविराज शैलेन्द्र को | वर्ष 1949 में राजकपूर निर्मित फिल्म ‘ बरसात ” के जरिये राजकपूर ने शैलेन्द्र , हसरत जयपुरी , और संगीतकार के रूप में शंकर – जयकिशन को अपना कैरियर शुरुआत करने का मौक़ा दिया | वर्ष1970 में राजकपूर ने फिल्म ‘ मेरा नाम जोकर ‘ बनाया \ मेरा नाम जोकर में राजकपूर ने जीवन के फलसफे को बड़े बेहतरीन तरीके से पेश किया पर दुर्भाग्य इस देश की आवाम उस फिल्म को समझ न सकी और वो फिल्म बुरी तरह पीट गयी | इस फिल्म को लेकर राजकपूर को बड़ी आशाये थी वो टूट गयी | उन्हें काफी आर्थिक नुक्सान भी हुआ | राजकपूर ने अपने फ़िल्मी कैरियर में मान – सम्मान बहुत पाए | वर्ष 1985में राजकपूर निर्देशित अंतिम फिल्म ” राम तेरी गंगा मैली ” बनाई इसके बाद राजकपूर अपनी महत्वाकाक्षी फिल्म ‘ हिना ” के निर्माण में व्यस्त हो गये लेकिन उनका यह सपना साकर नही हुआ उस फिल्म को बाद में अन्य लोगो ने पूरा किया | 2 जून 1988 को इस सिनेमा के कैनवास का जादूगर हमेशा के लिए यह कहते हुए सो गया

” एक दिन बिक जायेगा माटी के मोल जग में रह जायेगे प्यारे तेरे बोल ”
सुनील दत्ता —— स्वतंत्र पत्रकार — समीक्षक

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments