Monday, April 22, 2024
होमखेल जगतधोनी जैसा कोई नहीं,जिस टीम का कप्तान फाईनल हारने के बाद भी...

धोनी जैसा कोई नहीं,जिस टीम का कप्तान फाईनल हारने के बाद भी कहे, मुझे खुशी है कि मैं किसी और से नहीं, धोनी की टीम से हारा

आईपीएल 2023 यानि आईपीएल का 16 वां संस्करण समाप्त हो गया । अबतक 16 संस्करणों में 5 बार चेन्न ई और पांच बार मुम्ब ई ने जीता है 6 बार अन्य टीमों ने जीता है। कमाल की बात तो यह रही कि अधिकांश लोगों को और क्रिकेट पंडितों के अनुसार किसी को भी क्वालिफायर वन में गुजरात के हारने के बाद भी सभी तुक्का मान रहे थे कि फाईनल में तो गुजरात ही जीतेगी। इसके पीछे का लाजिक भी अपनी जगह सही था।गुजरात के लगभग 6-7 खिलाडी़ लगातार बहुत ही अच्छा प्रदर्शन कर रहे थे खासकर शुभमन गिल, मों. शमी,मो. राशिद और मोहित शर्मा ने तहलका मचा रखा था और इन सबके उपर धोनी की ही तरह बडा़ खिलाडी़ और बडा़ कप्तान बनने की ही राह पर चल रहे हार्दिक पांड्या हैं । दूसरी तरफ बेन स्टोक्स घायल होकर बाहर थे।बडे़ खिलाडी़ सिर्फ धोनी और जडेजा थे। महिषा पतिराना अभी बडा़ खिलाडी़ बनने की राह पर हैं ।जब गुजरात ने फाइनल में पहले बल्लेबाजी करते हुए 214 बनाए तो चेन्न ई का बडा़ से बडा़ समर्थक भी गुजरात की बालिंग साइड देखते हुए ( मो.शमी, राशिद खान, नबी अ हमद और मोहित शर्मा) हतोत्साहित हो चुका था, लेकिन यही तो क्रिकेट है,जो क्रिकेट को रोमांचक और बेहद लोकप्रिय बनाता है कि जो आदमी सोचता है कभी-कभी उसके विपरित होता है,खासकर क्रिकेट के20-20 स्वरूप में पल भर में खेल का रूख बदल जाता है। पहले गुजरात की बैटिंग के दरम्यान शुभमन की स्टंपिंग ने सभी ने धोनी का लोहा माना।रन तो उन्होने रन तो नहीं बनाए ,लेकिन टास जीत कर बारिश को ध्यान में रखकर पहले बालिंग के निर्णय ने असली खेल दिखाया ।वही हुआ, चेन्न ई की बैटिंग में पहले ओवर में हुई बारिस ने खेल का रूख कुछ हद तक चेन्न ई के खेल को नियंत्रित कर दिया ।रन तो फिर भी 11 रन पर ओवर से कुछ अधिक था, लेकिन लक्ष्य छोटा यानि 215 के बजाय 171 हो गया और धोनी को पहली बार आखिरी ओवर की 4 गेंद फेंके जाने तक मात्र 3 रन बनने पर हतोत्साहित और हार स्वीकार करने की स्थिति तक देखा गया और जीत के बाद जडेजा को गले लगाते समय आंख मे आंसू देखा गया।ये सब पहली बार हुआ वहीं तारीफ करनी होगी हार्दिक पांड्या की ,जिन्होने जीत के बाद धोनी को अब तक मिले लोगों में बेहद अच्छा इंसान बताते हुए कहा कि अच्छे लोगों के साथ अच्छा ही होता है।,सच में धोनी जैसा कोई नहीं,अंत में धोनी ने जनता के प्यार को देखते हुए कहा कि यह रिटायरमेंट का आदर्श है,अभी सोच विचार के लिए 8-10 माह का समय है,साथ ही खेल प्रेमियों को सम्भवतः एक आईपीएल और खेलने का इशारा भी कर गये।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments