Sunday, April 14, 2024
होमराजनीतिचुनावी चर्चा -5, तमिलनाडु, पांडिचेरी व अन्य)

चुनावी चर्चा -5, तमिलनाडु, पांडिचेरी व अन्य)

पहले चरण का चुनाव हो गया है। अब दूसरे चरण का चुनाव 18 अप्रैल को होना है। इस दूसरे चरण में तमिलनाडु की सभी 39 लोकसभा की सीटों पर तथा पांडुचेरी की इकलौती सीट पर भी 18 अप्रैल को ही मतदान सम्पन्न हो जाएगा।
इसके अलावा आसाम की 5सीट पर, बिहार 5 सीट, छत्तीस गढ 3 सीट, जम्मू कश्मीर 2 सीट, कर्नाटक 14, महाराष्ट्र 10, मणिपुर 1 सीट, उड़ीसा 5 सीट, त्रिपुरा 1 सीट, उत्तर प्रदेश की 8 सीट, पश्चिम बंगाल की 3 सीट पर मतदान होना है। तो आज सबसे पहले तमिलनाडु की सभी 39 सीटों पर चुनावी चर्चा होनी है।
तमिलनाडु में वर्षों से दो ही क्षेत्रीय दलों एआईडीएमके और डीएमके का बोलबाला रहा लेकिन पिछले लोकसभा चुनाव 2014 के बाद पहले एआईडीएमके प्रमुख और एमजी रामचंद्रम की मृत्यु के बाद पार्टी का चेहरा वहाँ की लोकप्रिय नेता और तमिल फिल्म की मशहूर अभिनेत्री जयललिता की मौत के बाद उनकी सहेली शशिकला वहाँ की मुख्यमंत्री बनी उन्हें भी सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद भ्रष्टाचार के मामले में जेल जाने के बाद से तमिलनाडु की मुख्यमंत्री की गद्दी के लिए पार्टी में भारी फूट पड गई।
इधर डीएमके प्रमुख और पार्टी का चेहरा रहे लोकप्रिय नेता और पूर्व मुख्यमंत्री करुणानिधी की भी लम्बी बीमारी के बाद निधन हो जाने के बाद उनके पुत्र स्टालिन डीएमके प्रमुख बनाए गए वह पहले से ही करुणानिधी के साथ पार्टी का सारा काम देखते थे। उनके परिवार में भी विरोध के स्वर उठे लेकिन फिर सभी ने चुप्पी साध ली। वर्तमान समय में स्टालिन की पार्टी पर पूरी पकड है।
अब 2019 के चुनावी समीकरण और सम्भावनाओं पर भी बात कर ली जाय। पिछले लोकसभा चुनाव 2014 में भी डीएमके के साथ कांग्रेस का गठबंधन था और उस समय करुणानिधी की पुत्री कानिमोझी जो केंद्र में यूपीए सरकार में शामिल थी और भ्रष्टाचार के आरोप में जेल भी जा चुकी थीं तथा कांग्रेस सरकार से जनता भ्रष्टाचार और महंगाई के कारण पूरे देश में नाराज थी नतीजा एआईडीएमके 37 और सहयोगी पीएमके 1और भाजपा 1 सीट जीत गई और डीएमके गठबंधन का सफाया हो गया था। किंतु इस बार परिस्थितियां एआईडीएमके के पूरी तरह खिलाफ है। एक तो जयललिता की मौत के बाद पार्टी में बड़ी फूट है एआईडीएमके के सभी बड़े और प्रमुख नेता भ्रष्टाचार में घिरे हुए हैं जनता में 10 साल से सत्ता में रहने के बाद भी कुछ नहीं कर पाने के कारण रोष है। उधर इस बार डीएमके प्रमुख स्टालिन ने आठ दलों का गठबंधन भी बहुत ही अच्छे ढंग से किया है। कांग्रेस को गठबंधन मे 9 सीट मिली है वहीं एआईडीएमके ने भाजपा को 5 सीट दी है इसके अलावा उसने भी कुछ छोटे दलों से गठबंधन किया है कयी विधान सभा सीटों पर उप चुनाव भी
तमिलनाडु में 18 अप्रैल को हो रह अधिकांश चुनाव विश्लेषकों का मानना है कि इस बार डीएमके गठबंधन तमिलनाडु में क्लीन स्वीप करने जा रही है। मेरे अपने स्त्रोत के अनुसार एआईडीएमके गठबंधन 7-8 सीट पा सकती है वहीं डीएमके गठबंधन 30-32 सीट पा सकती है।

पिछला लेख
अगला लेख
RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments