Friday, June 14, 2024
होमराजनीतिक्रमशः- ...

क्रमशः- —चुनावी चर्चा -2–

जिन राज्यों में पहले ही चरण में सभी सीटों पर लोकसभा चुनाव होने होने हैं उनमें आन्ध्र प्रदेश की सभी पच्चीस लोकसभा सीटों पर 11 अप्रैल को ही चुनाव होंगे ।आन्ध्र प्रदेश में 11 अप्रैल को ही विधान सभा की कुल 175 सीटों पर भी चुनाव होने हैं। वर्तमान में वहां चद्र बाबू नायडू की तेलुगू देशम पार्टी की सरकार है चंद्र बाबू नायडू भूतपूर्व मुख्य मंत्री और दक्षिण भारत के फिल्म स्टार एन टी रामाराव के दामाद भी हैं और तेलगू देशम पार्टी में फूट डाल कर सत्ता हासिल की थी और आंध्र प्रदेश के सफल मुख्य मंत्री रहे।
वाईएसरेड्डी कांग्रेस के बेहद मजबूत और ताकतवर नेता थे। कांग्रेस ने उन्हें जब आंध्र प्रदेश कांग्रेस का अध्यक्ष बनाया तो किसी को भरोसा नहीं था कि वह चंद्र बाबू नायडू की लोकप्रियता को टक्कर दे पाएंगे। लेकिन वाई एस रेड्डी ने पूरे आंध्र प्रदेश का भ्रमण कर लोगों के दिल में कांग्रेस को बैठाया। भारी जीत के साथ कांग्रेस की आंध्र की सत्ता में वापसी हुई थी और वाई एस रेड्डी मुख्य मंत्री बने थे किन्तु एक दुर्घटना में उनकी असामयिक मृत्यु के बाद उनके पुत्र जगन मोहन रेड्डी ने अपने को कांग्रेस आलाकमान के सामने खुद को मुख्य मंत्री बनाए जाने की बात कही जो सोनियां गांधी को नागवार लगी उन्होंने के रोसैया को मुख्य मंत्री बना दिया और जगनमोहन बागी हो गए। तो कांग्रेस ने उन्हें आय से अधिक सम्पत्ति के मामले में काफी परेशान किया। तब जगन मोहन रेड्डी ने अपनी अलग पार्टी बनाई।
इधर चंद्र बाबू नायडू ने विशेष राज्य के मांग को लेकर संसद में हंगामा मचाया लेकिन भाजपा ने उनकी मांग नहीं मानी तो वह एनडीए से अलग हो गए।
वर्तमान समय में आंध्र प्रदेश दो भाग में (तेलंगाना) हो गया है और कांग्रेस ने तेलंगाना राज्य राजनीतिक लाभ के लिए बनवाया किन्तु उसका लाभ टी आर एस के चन्द्र शेखर राव को मिला। और आंध्र प्रदेश की जनता भी आंध्र प्रदेश के बंटवारे से कांग्रेस से नाराज हो गई। यह सोनिया गांधी की ऐसी भयंकर रणनीतिक भूल थी जिसकी तपिश कांग्रेस में आज भी है। और इस बार पूरे राज्य में चंद्र बाबू नायडू हाशिए पर दिख रहे हैं और जगन मोहन रेड्डी की लहर स्पष्ट रूप से दिखाई दे रही है। अलबत्ता पिछले लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के हारने के बाद कांग्रेस से अलग हो अपनी पार्टी बनाने वाले किरन रेड्डी के कांग्रेस में वापस आने से कुछ लाभ कांग्रेस को मिल सकता है।
विभिन्न स्रोतों से मिली जानकारी के अनुसार जगन मोहन रेड्डी की पार्टी वाईएस आर कांग्रेस की पार्टी की विधान सभा चुनाव और लोकसभा चुनाव में बड़ी संख्या में सीट मिलने जा रही हैं और आंध्र प्रदेश में जगन मोहन रेड्डी की सरकार का आना तय है। 175 विधान सभा सीटों में 80-100 सीट जगन मोहन रेड्डी की पार्टी पा सकती है वहीं चंद्र बाबू नायडू की तेलुगू देशम पार्टी को 40-50 सीट मिल सकती है। वहीं कांग्रेस को 20-25 सीट और 5-10 सीट मिलने की सम्भावना है
वहीं लोकसभा चुनाव में जगन मोहन रेड्डी की पार्टी को 25 सीटों में से15-17 सीट,चंद्र बाबू नायडू की पार्टी को 4-5सीट , कांग्रेस 3-4 सीट और भाजपा को एक सीट मिल सकती है।
सम्पादक की कलम से —

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments