Tuesday, April 23, 2024
होमखेल जगतएक दिवसीय क्रिकेट विश्वकप- भारत बिना एक भी मैच हारे पहुंचा सेमीफाइनल...

एक दिवसीय क्रिकेट विश्वकप- भारत बिना एक भी मैच हारे पहुंचा सेमीफाइनल में, पहली बार सभी खिलाडि़यों का योगदान, किसी एक पर टीम निर्भर नहीं, सभी का योगदान शत प्रतिशत

इस विश्वकप में पहली बार ऐसा हुआ है कि सभी भारतीय खिलाडि़यों ने अपना शत प्रतिशत योगदान किया है ,हर विभाग में टीम अन्य दलों से बहुत आगे दिख रही है चाहे वह बल्लेबाजी का क्षेत्र हो या गेंदबाजी का क्षेत्र हो या क्षेत्ररक्षण का । चाहें बेंच पर बैठे खिलाडी़ हों जैसे अश्विन ,खेलकर चोटिल हुए हार्दिक हों ,चाहे दो तीन मैच खेलकर बेंच पर बैठे ईशान किशन हों या तीन चार मैच बेंच पर बैठने के बाद लौटे शमी और केएल राहुल हों , सभी ने दिल खुश कर दिया हो बल्लेबाजी में सिरमौर रहे विराट कोहली और कप्तान रोहित शर्मा की वही कीमत है वही केएल राहुल, शुभमन गिल,श्रेयस अय्यर, सूर्य कुमार याबेंच पर बैठे ईशान किशन की है यही हाल गेंदबाजी में जो कीमत बुमराह और शमी की है वही मोहम्मद सिराज की है यही स्पिन विभाग में कुलदीप यादव ,अश्विन की है रही बात रवींद्र जडेजा की तो, इस सदाबहार खिलाडीं के बारे में जो भी लिखा जाय, कम है उसी रास्ते पर चोटिल हार्दिक पांड्या की है फिर भी कुछ खिलाडी़ इस विश्वकप में अद्वितीय प्रदर्शन कर रहे हैं उनकी अलग से चर्चा जरूरी है, बल्लेबाजी में विराट कोहली और कप्तान रोहित शर्मा की चर्चा होनी चाहिये। ये दोनों वैसे तो भारत के महान खिलाडि़यों की श्रेणी में आते हैं लेकिन इस विश्वकप में दोनों लगातार शानदार प्रदर्शन कर रहे हैं लेकिन मुझे यह कहने में कोई संकोच नहीं कि जैसा पहले बडे़ खिलाडी़ कहते रहे हैं कि मैच तो बालर ही जीताते हैं इस भारतीय टीम पर एकदम सटीक बैठ रही है। बुमराह, मोहम्मद सिराज तो हैं ही, मो. शमी, कुलदीप यादव और जडेजा ने तो विपक्षी टीमों पर कहर ही ढा रखा है।यहां एकबात और कहनी है कि यह भारतीय टीम का दुर्भाग्य ही है कि मो. शमी और कुलदीप यादव को टीम में अंदर।बाहर होना पड़ता है और शार्दुल ठाकुर जैसे बालरों को आलराउंडर के नाम पर तरजीह दी जाती है। इस विश्वकप में सभी खिलाडि़यों के बेहतरीन प्रदर्शन के पीछे कोच राहुल द्रविड़ की सोच और मेहनत का भी बडा़ हाथ है । उन्होने विश्वकप के काफी पहले से टीम में सभी खिलाडि़यों को बदल – बदल कर मौके दिये जिस कारण क ई मैच भारत हारी भी और राहुल द्रविण के इसके लिए काफी आलोचना भी हुई लेकिन वो अपने हिसाब से टीम कम्बीनेशन करते रहे , जिसका नतीजा अब सामने आ रहा है। सम्पादकीय- News51.in

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments