Friday, June 14, 2024
होमखेल जगतएक दिवसीय क्रिकेट का विश्वकप- प्रथम बार भारत एकल मेजबानी विश्वकप द्वारा...

एक दिवसीय क्रिकेट का विश्वकप- प्रथम बार भारत एकल मेजबानी विश्वकप द्वारा करने से भारत में लोगों की उम्मीदें उफान पर, भारतीय खिलाडि़यों की तैयारी और उनके सभी खिलाडी़ की फिटनेस और फार्म भी सही दिशा में, इंग्लैंड, न्यूजीलैंड के साथ भारत सम्भावित विजेताओं मे सबसे आगे

5 अक्टूबर से एक दिवसीय क्रिकेट के फार्मेट का विश्वकप प्रारम्भ होने जा रहा है और ऐसा पहली बार हो रहा है कि भारत अकेले ही इस विश्वकप की मेजबानी कर रहा है इससे पहले 1987 में पाकिस्तान के साथ,1996 में पाकिस्तान और श्री लंका के साथ मिलकर फिर 2011 में श्रीलंका व बांगला देश के साथ मिलकर भारत ने इसका आयोजन किया था।इस एकदिवसीय क्रिकेट के फार्मेट में 1983 में पहली बार कप्तान कपिल देव की अगुवाई में भारत पहली बार विश्व चैम्पियन और आखिरी बार 2011 में लगभग 27 साल बाद चैम्पियन बना। इन्ही दो विजय ने कपिलदेव और महेंद्र सिंह धोनी को महानतम कप्तान बना दिया ।इसके अलावा भारतीय टीम 1987 और 1996 में सेमीफाईनल तक पहुंची है इस विश्वकप में कुल 10 टीमें भारत, पाकिस्तान , श्रीलंका, बांगला देश, अफगानिस्तान, दक्षिण अफ्रीका, नीदरलैंड , इंग्लैंड , न्यूजीलैंड और आस्ट्रेलिया की टीम खेल रही है ।दुखद ये कि विश्वकप की सबसे सफल टीमों में एक वेस्ट इंडीज क्वालिफाइंग राऊंड में ही बाहर हो गयी ।एक बार 2007 में भारत भी ग्रुप स्तर से ही बाहर हो ग ई थी। भारतीय टीम के पास इस बार अपने होम।ग्राउंड में खेलने और लगभग सभी शीर्ष खिलाडी़ जो चोटिल थे ( बुमराह,श्रेयस अय्यर, केएल राहुल , हार्दिक पांड्या, जडेजा) स्वस्थ होकर टीम के साथ।जुड़ चुके हैं और श्री लंका ,एशिया कप तथा आस्ट्रेलिया से हुई सिरीज में सभी चोटिल होकर वापस आये खिलाडि़यो़ सहित सभी फार्म में नजर आये । तेज गेंदबाजी में बुमराह, शमी और सेराज सभी बल्लेबाजों के लिए परेशानी का सबब बने हुए हैं और स्पिन।विभाग में अक्षर पटेल के घायल होने से अश्विन की क्षमता से सभी वाकिफ हैं रवींद्र जडेजा और हार्दिक पांडया तो इस टीम की जान हैं ही, टीम से क ई बार उपेक्षित कुलदीप यादव विपक्षी खिलाडि़यों के लिए अबूझ पहेली बने हुए हैं इस तरह भारत का गेंदबाजी विभाग सम्भवतः विश्व स्तरीय है इसी प्रकार रोहित शर्मा ,श्रेयस अय्यर और के.एल. राहुल का फार्म में आना, फिर उसके बाद विराट कोहली और गिल द्वारा लगातार रन बनाना, नवोदित विकेट कीपर बल्लेबाज ईशान किशन का फार्म में रहना टीम से देश को काफी आशाएं जगाता है । ले दे कर सूर्य कुमार का फार्म थोडा़ चिंतित करने वाला है लेकिन वह ऐसे खिलाडी़ हैं जो फार्म के मोहताज नहीं हैं दिन विशेष पर धमाल मचा सकते हैं और यह भी हो सकता है कि के.एल. राहुल और ईशान किशन साथ खेलते हुए दिखें ।जो भी हो भारतीय टीम 12 वर्ष के बाद चैंम्पियन बनने की हकदार है हमारा असली प्रदर्शन इंग्लैंड और न्यूजीलैंड के विरूद्ध हमें चैम्पियन बनाएगा हालांकि पाकिस्तान भी अच्छी टीम है लेकिन सम्भावित चैंम्पियन तो नहीं ही है। सम्पादकीय- News51.in

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments